Miss GupShup

‘PHULLU’ मासिक धर्म से जुड़ी बेहतरीन फिल्म..

0

बॉक्स ऑफिस पर रिलीज हुई एक ऐसी फिल्म जिस सब्जेक्ट पर फिल्म बनाना हर किसी के बस की बात नहीं है, जी हाँ हम बात कर रहे है अभिषेक सक्सेना डायरेक्टेड फिल्म फुल्लू की, फुल्लू एक ऐसी फिल्म है जिस सब्जेक्ट को आजतक किसे ने फिल्मी पर्दे पर दिखाने की कोशिश नहीं की।  डायरेक्टर अभिषेक सक्सेना ने महिलाओं के मासिक धर्म को केंद्रीय विषय बनाकर समाज में काफी अच्छा मैसेज देने की कोशिश की है..इस फिल्म में शारिब अली हाशमी, और ज्योति सेठी मेन लीड में है..

phulu poster

फिल्म में शारिब अली हाशमी यानि फुल्लू, यूपी के गांव में अपनी मां और बहन के साथ रहता है. उसे औरतों के साथ हंसी-मजाक करना,गांव की महिलाओं की हर तरीके से मदद करना ,बहार से महिलाओं का सामान लाकर देना काफी अच्छा लगता है.जिसकी वजह से लोग उसे निकम्मा और पागल कहते हैं. मां उसके इस निठल्लेपन से तंग आकर उसकी शादी कर देती है, कि शायद जिम्मेदारी के दबाव में ही सही वो काम करना शुरु कर दें…और एक दिन सामान के सिलसिले में वो शहर जाता है और दवाई की दुकान वाले से  सेनेटरी नैपकीन मांगता है..बस…यहीं से शुरु होती है फिल्म की असली कहानी…

फिल्म में शारिब अली ने काफी बेहतरीन एक्टिंग की है.. शारिब फुल्लू के किरदार में मेडिकल स्टोर जाकर वहां की डॉक्टर से महिलाओं की माहवारी के पैड के बारे में समझता है और एहसास करता है की उसके भी घर में रहने वाली महिलाएं यानी की मां, बहन, पत्नी और साथ ही साथ उसके गांव की महिलाओं के लिए भी कम पैसों में पैड की सुविधा उपलब्ध होनी चाहिए...फुल्लू का ये किरदार आपका दिल जीत लेगा..

फिल्म का डायरेक्शन काफी अच्छा है साथ ही फिल्म के रियल लोकेशन फिल्म को और भी ज्यादा रिच बनाती हैं..फिल्म के डायरेक्टर अगर चाहते तो अपनी कहानी को किसी बड़े शहर पर फोकस करके भी फिल्म बना सकते थे, लेकिन यहां अभिषेक की तारीफ करनी होगी कि उन्होंने कहानी के साथ पूरी ईमानदारी बरतते हुए शहर से दूर एक छोटे से गांव की महिलाओं पर फोकस करके यह फिल्म बनाई है..फिल्म में छोटी-छोटी बातें हैं जो आपके जहन में भी घर कर जाएंगी…वहीं एक्ट्रेस ज्योति सेठी ने अपने किरदार को बखूबी निभाया है..ज्योति ने अपने किरदार से लोगों का दिल जीता है..

phullu actress jyoti sethi

बात करे फिल्म के गाने की तो ‘भुनर-भुनर’ गाना आपका दिल जीत लेगा..इस गाने का बैकग्राउंड स्कोर  काफी ज्यादा अच्छा है..फिल्म में तो वैसे गाने और भी है पर ये गाना गांव के माहौल को  देखते हुए स्क्रीन प्ले के साथ काफी अच्छा लग रहा है

bunar bhunar song phullu

जाहिर है फिल्म एक अलग विषय पर बनी है…एडल्ट का सर्टिफिकेट भी मिला है..फिल्म के द्वारा एक स्ट्रोंग मेसेज भी दिया गया है.. फिल्म सिर्फ मनोरंजन कराने के लिए नहीं, बल्कि देश की महिलाओं को अपनी हेल्थ के प्रति जागरुक करने के लिए भी है…इस लिहाज़ से ये फिल्म काफी बेहतरीन है..

आपको बता दे कि पहले भी सेंसर बोर्ड ने लिप्‍स्टिक अंडर माई बुर्का को भारत में बैन किया गया था जिस कारण से सेंसर बोर्ड चर्चा में रह चुका है। फिल्म फूल्लू के लिए सेंसर बोर्ड के द्वारा लिए गए इस फैसले के कारण सोशल मीडिया पर भी काफी बहस हो रही है।

 

So, what do you think ?

You must be logged in to post a comment.